डेफी (DeFi) को स्केल करने की समस्याएँ

10 मिनट पढ़ें
19, मई, 2022

मेटा विवरण: डेफी (DeFi) को किन समस्याओं का सामना करना पड़ता है? क्या उच्च शुल्क और कम थ्रूपुट (throughput) के लिए कोई समाधान हैं? जानने के लिए डेक्सिलॉन ब्लॉग में पढ़ें!

डेफी (DeFi) क्या है?

डेफी (DeFi) विकेन्द्रीकृत वित्त (decentralized finances) को संदर्भित करता है, जिसका उद्देश्य वित्तीय सेवाएँ प्रदान करने वाले केंद्रीकृत प्लेटफार्मों (centralized platforms) का उपयोग करने में आने वाली कमियों को दूर करना है। विकेन्द्रीकृत वित्त (DeFi) का कॉन्सेप्ट क्रिप्टोकरंसीज़ द्वारा उपयोग की जाने वाली, वितरित खाता तकनीक पर आधारित है। अपनी उभरती तकनीक के माध्यम से, डेफी (DeFi) बिचौलियों को हटाता है ताकि लोग, व्यापारी और व्यवसाय आपस में सीधे कोई भी वित्तीय लेनदेन कर सकें। इस कॉन्सेप्ट को पीयरटूपीयर वित्तीय नेटवर्क के माध्यम से लागू किया जाता है जो सुरक्षा प्रोटोकॉल, हार्डवेयर उन्नति, कनेक्टिविटी और सॉफ्टवेयर पर निर्भर करता है।

वास्तव में, डेफी (DeFi) प्रोजेक्ट्स (विकेंद्रीकृत एक्सचेंजों) का लक्ष्य अपने केंद्रीकृत समकक्षों से मेल खाना है। उदाहरण के लिए, डीईएक्स (DEXs) सबसे अधिक संघर्ष कर रहे हैं क्योंकि वे गति और थ्रूपुट पर बहुत निर्भर हैं। तो यह कैसे संभव हो सकता है?

डेफी (DeFi) के समाधान

लेनदेन करने के लिए, डीईएक्स (DEXs) स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट्स का उपयोग करते हैं। वे स्वनिष्पादित अनुबंध यानि कॉन्टेक्ट्स हैं जिनमें खरीदार और विक्रेता के बीच समझौते की शर्तें सीधे कोड में शामिल की जाती हैं।

इन अनुबंधों की ख़ास बात यह है कि वे डीईएक्स (DEXs) पर ट्रेड का समर्थन करते हैं, बिचौलियों की जरूरत जो की रिकॉर्ड अपडेट करने, अनुपालन सुनिश्चित करने और प्रतिपक्ष जोखिम का प्रबंधन करने के लिए होती है, को समाप्त करते हैं। इसके अतिरिक्त, डेफी (DeFi) एप्लिकेशन जानकारी को रिकॉर्ड करने से पहले प्रमाणित करने के लिए क्रिप्टोग्राफ़िक प्रक्रियाओं को लागू करते हैं, जिससे संचालन पारदर्शी होता है। इस तरह, वे लेन-देन करना तेज़ बनाते हैं, और मानवीय त्रुटि के जोखिम को ख़त्म करते हैं।

इसके अलावा, डेफी (DeFi) आसानी से अन्य विकेंद्रीकृत ऐप्स (dApps) के साथ मिलाप कर सकते हैं। वे पूरी तरह से स्वतन्त्र और विकेन्द्रीकृत बैंकिंग सेवाएँ जैसे उधार लेना, उधार देना, ट्रेडिंग और डेरिवेटिवस प्रदान करते हैं। संयुक्त होने पर, वे वित्त के लिए एक नए प्रतिमान को प्रदर्शित करते हैं। इसके बावजूद भी डेफी (DeFi) को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।

डेफी किन समस्याओं को हल (Solve) करने की कोशिश कर रहे हैं? बड़ी चुनौतियाँ

क्योंकि किसी भी ऑपरेशन को ब्लॉकचेन नेटवर्क पर सार्वजनिक रूप से प्रकट और रिकॉर्ड किया जाना चाहिए, यह एक निश्चित समय में किए गए लेनदेन की कुल संख्या पर प्रतिबंध स्थापित करता है। टेक्नोलॉजी नेटवर्क की सुरक्षा सुनिश्चित करती है, लेकिन इसके लिए बहुत अधिक कम्प्यूटेशन पॉवर की आवश्यकता होती है जिसमें पैसा खर्च होता है। इस प्रकार, डेफी (DeFis) अनुबंध सीमाओं, उच्च शुल्क और डीडोस (DDoS) द्वारा हमलों से प्रवण (prone) रहते हैं। डेफी (DeFi) का एक और प्रमुख मुद्दा भी है: मापनीयता यानि स्केलेबिलिटी।

स्केलेबिलिटी (Scalability)क्या है?

एक प्रणाली की मापनीयता यह दर्शाती है कि प्रदर्शन में गिरावट का सामना किए बिना यह कितना बड़ा हो सकता है। ब्लॉकचेन आर्किटेक्चर में, इसे अक्सर थ्रूपुट (throughput) के रूप में जाना जाता है। डेफी (DeFi) की स्केलेबिलिटी आवश्यक है क्योंकि नेटवर्क लेनदेन में प्रभावशाली वृद्धि से गुजरता है इस कारण से, यदि नेटवर्क सभी लेनदेन का प्रबंधन करने में सक्षम नहीं होगा, तो यह बढ़ नहीं कर पाएगा।

इस तरह की समस्या का सामना करने के लिए, ब्लॉकचेन ने लेयर 2 विकसित की।

लेयर 2 के समाधान

ब्लॉकचेन स्केलेबिलिटी समस्या के कई समाधानों को लेयर 2, याऑफचेनस्केलिंग विकल्प के रूप में संदर्भित किया जाता है। लेयर 2 किसी भी ब्लॉकचेन का प्रारंभिक भाग है। बिटकॉइन लाइटनिंग नेटवर्क और एथेरियम प्लाज़्मा लेयर 2 समाधानों के दो महत्वपूर्ण उदाहरण हैं। काम करने के सिद्धांतों और विशेषताओं में उनके अंतर के बावजूद, दोनों तकनीकें ब्लॉकचेन नेटवर्क के थ्रूपुट (throughput) को बढ़ाने और गैस शुल्क को कम करने का प्रयास करती हैं।

यह काम कैसे करता है?

आमतौर पर, लेयर 2 को मुख्य श्रृंखला (लेयर 1) में एक अतिरिक्त परत के रूप में जोड़ा जाता है। इस प्रकार, मौलिक संरचना में किसी भी संशोधन को लागू करने की कोई आवश्यकता नहीं है। इसलिये, ऐसा समाधान लेयर 1 नेटवर्क सुरक्षा पर कोई प्रभाव नहीं डालता है, और किए गए लेनदेन (उच्च थ्रूपुट) की संख्या बढ़ती है।

आइए जानें कि एथेरियम के लेयर 2 (Ethereum’s Layer 2)समाधान किस प्रकार के हैं।

एथेरियम स्केलिंग समाधान के प्रकार

स्केलेबिलिटी, उच्च गैस शुल्क और नेटवर्क की भारी भीड़ जैसी चिंताओं को दूर करने के लिए, एथेरियम अपने ऐतिहासिक एथेरियम 2.0 अपग्रेड को जारी करने के लिए तैयार हो रहा है, जो नेटवर्क को पूरी तरह से नया स्वरूप देगा।

एथेरियम 2.0 नेटवर्क का एक प्रमुख अपग्रेड है, जिसमें कई चरण शामिल हैं, जिसके परिणामस्वरूप प्रूफऑफवर्क (काम का सबूत) को प्रूफऑफस्टेक सर्वसम्मति (हिस्सेदारी का सबूत सर्वसम्मति) में बदल दिया जाएगा, जिससे नेटवर्क अधिक स्केलेबल, सुरक्षित और दीर्घकालिक बन जाएगा।

इथेरियम स्केलिंग समाधान के 3 प्रकार हैं:

  • प्लाज्मामुख्य श्रृंखला प्रमाणीकरण में मदद करने वाले द्वितीयक यानि सेकन्डेरी ब्लॉकचेन का उपयोग करता है। पोलकाडॉट (Polkadot) के स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट्स से काफी मिलतेजुलते होने के बावजूद, प्लाज्मा कॉन्ट्रैक्ट्स को मुख्य श्रृंखला (मैंन चेन) से लेनदेन को बाहर करने, समय को बचाने और स्केलेबिलिटी बढ़ाने के लिए एक अनुक्रम में व्यवस्थित किया जाता है।
  • आशावादी (Optimistic) रोलअपसनेटवर्क ओवरलोड के बिना बड़ी संख्या में स्मार्ट अनुबंधों के निष्पादन की अनुमति देने के लिए ये एथेरियम की बेस लेयर यानि आधार परत पर कार्य करते हैं। वे एथेरियम मुख्य श्रृंखला के समान ही सुरक्षा के स्तर को बनाए रखते हैं। तेजी से लेनदेन की गति प्राप्त करने के लिए, डेटा एग्रीगेटर मर्कल रूट (Merkle root) की गणना करते हैं। हालाँकि, उनके पास प्लाज्मा (Plasma) और ज़ेडके रोलअपस (ZK Rollups) की तुलना में कम थ्रूपुट (throughput) है।
  • ज़ेडके (शून्यज्ञान) रोलअपसडेटा पैक जिन्हें प्रसंस्करण और गणना के लिए ऑफचेन यानि शृंखला से बाहर भेजे जाने से पहले एक स्मार्ट अनुबंध द्वारा मुख्य श्रृंखला पर सुरक्षित किया जाता है। 2,000 टीपीएस ( 2,000 TPS) का उत्पादन करने की क्षमता के साथ, वे एक मिनट के अंदर ही एक ब्लॉक बना सकते हैं। यह शब्दशून्यज्ञानयानि “zero-knowledge” इस तथ्य को संदर्भित करता है कि सभी प्रमाणीकरता जागरूक हो सकते हैं कि उनके पास एक सी जानकारी है, उसका खुलासा किए बिना।

क्योंकि डेटा को ऑफचेन यानि श्रृंखला के बाहर स्टोर किया जाता है, इसलिए ज़ेडकेरोलअपस (ZK-rollups) लेयर 2 वाला स्केलिंग दृष्टिकोण, लेयर 1 से बेहतर प्रदर्शन करता है। लेयर 2 उपयुक्त स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट डेटा की लेयर 1 ब्लॉकचेन के डेटा की तुलना में कम आवश्यकता होती है। यह बहुत सारी कंप्यूटिंग शक्ति बचाता है, और लेनदेन का सत्यापन ब्लॉकचेन पर कम जगह लेता है। जिसकी वजह से, गैस की कीमतें गिरती हैं, जिससे लेनदेन तेज और कम खर्चीला हो जाता है।

Ethereum एथेरियम 2.0: क्या यह स्केलेबिलिटी की समस्या को हल करेगा?

इन दिनों, अधिकांश डेफी (DeFi) संचालन एथेरियम ब्लॉकचेन पर संसाधित होते हैं। ब्लॉकचैन पर व्यवस्थित होने के लिए, इनमें से प्रत्येक लेनदेन में ईटीएच (ETH) की कुछ राशि खर्च होती है मतलब एथेरियम की मूल क्रिप्टोकरेंसी। 2020 में डेफी (DeFi) की बढ़ती लोकप्रियता के कारण, लेनदेन की कीमतें आसमान छू गईं थी। अभी, मूल लेनदेन की लागत 20 डॉलर ( $20) से शुरू होती है, और स्मार्ट अनुबंधों वाले जटिल संचालन के लिए 200 डॉलर ($200) तक चार्ज होता है, जो इस बात पर निर्भर करता है कि वर्तमान में ब्लॉकचेन का उपयोग कैसे किया जा रहा है।

सभी परिवर्तनों के बावजूद इथेरियम लागू करने की कोशिश करता है, फिलहाल, एथेरियम प्रूफ-ऑफ-वर्क थ्रूपुट कम रहता है – प्रति सेकंड केवल 15 लेन-देन (15 transactions)। इस समस्या को हल करने के लिए, डेवलपर्स प्रक्रियाओं के अनुकूलन का विचार लाए। इस लिए, वे एथेरियम 2.0 के विकास पर काम कर रहे हैं – एक बड़ी छलाँग एक ज्यादा ऊर्जा खपत करने वाले प्रूफ-ऑफ-वर्क (पीओडब्ल्यू – PoW) सर्वसम्मति से एक हलके और बेहतर प्रूफ-ऑफ-स्टेक (पीओएस – PoS) तंत्र पर। हालाँकि, इस तरह के परिवर्तन से उन माइनर्स के लिए समस्या हो सकती है, जो प्रूफ ऑफ़ वर्क माइनिंग प्रक्रिया का आनंद लेते हैं।

अपने लेयर -2 केंद्रित रोडमैप का पालन करने के लिए, ईटीएच (ETH) गैस शुल्क और लेयर 1 पर थ्रूपुट को कम करने के लिए साइडचेन और रोलअप के बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित करता है। इस रणनीति के बावजूद, डेफी (DeFi) के वर्चस्व का प्रतिशत, जिसे पिछले साल के शुरुआत में लगभग 100% होने का अनुमान था, बाजार के अनुमानित 70% तक कम हो गया है।

इसके कारण, उनके मूल टोकन का मूल्य भी बढ़ गया है। जबकि इथेरियम का नेटवर्क ऐसेट, ईथर (ईटीएच), कीमत में बढ़ गया है, ऊपर बताए गए प्रत्येक टोकन ने पिछले वर्ष ईटीएच (ETH) से बेहतर प्रदर्शन किया है। एथेरियम 2.0 अपडेट का उद्देश्य प्रूफऑफवर्क (पीओडब्ल्यू) सर्वसम्मति को अधिक ऊर्जाअनुकूल प्रूफऑफस्टेक (पीओएस) सर्वसम्मति में बदलना है। ऐसा क्यों है?

  • पीओडब्ल्यू (PoW) को बहुत अधिक गणना शक्ति की आवश्यकता होती है और इस प्रकार यह प्रति सेकंड केवल कुछ लेनदेन को ही संभाल सकता है। इन कारणों से, प्रत्येक ऑपरेशन में बहुत पैसा खर्च होता है। साथ ही इसके बेहद सुरक्षित होने का दावा भी किया जाता है।
  • पीओएस (PoS), बदले में, पीओडब्ल्यू (PoW) की तुलना में प्रति सेकंड कहीं अधिक लेनदेन की प्रक्रिया कर सकता है। हालाँकि, सुरक्षा का स्तर काफी कम है और पीओएस माइनर्स के लिए उपयुक्त नहीं है।

तो अब हम समझ सकते हैं कि कैसे इथेरियम, अपनी महंगी गैस फीस और कम थ्रूपुट के साथ, लेयर 2 समाधानों के कारण विकसित हो रहा है। 

एथेरियम 2.0 की कमियाँ

एथेरियम 2.0 सीईएक्स (CEXs) के लिए एक उचित समाधान और एक अच्छा विकल्प प्रदान करता है। हालाँकि, इसमें कुछ कमियाँ हो सकती हैं।

ब्रिज

लेयर 2 मेननेट के लिए एक अतिरिक्त लेयर है इसलिए यह ब्रिज के माध्यम से लेयर 1 से जुड़ती है। आप सोचेंगे कि लेयर 1 से लेयर 2 ब्रिज कितने सुरक्षित हैं। सभी मजबूत पक्षों के बावजूद, वे एसटीपी (STP), एआरपी (ARP), एलएलडीपी (LLDP) और अन्य (other) हमलों से ग्रस्त हैं। 

उच्च शुल्क

पोलकाडॉट (Polkadot), एवालांच (Avalanche), सोलाना (Solana) इत्यादि जैसी नई पब्लिक चेन्स, जो अच्छी प्रगति कर रही हैं, उनकी तुलना में, एथेरियम उच्च शुल्क लेता है।इस प्रकार, यदि युनिस्वैप (Uniswap) लेनदेन की लागत $0.0001 है, और बिनेंस (Binance) पर लेनदेन की कीमत $0,20 है, तो एथेरियम पर शुल्क $7(Ethereum is $7) है, और इसके ऑप्टिमिस्टिक रोलअप (Optimistic rollup) पर, शुल्क $0,68 से अधिक हो जाता है।क्या डेफी

(DeFi) वित्त (फाइनेंस) का भविष्य है?

लेयर 2 के साथ उद्योग की समस्या यह है कि उनमें से कई अलग हैं, और यह स्पष्ट नहीं है कि वे कैसे काम करते हैं और वे कितने सुरक्षित हैं। इसके अलावा, अभी भी बहुत सी अड़चने हैं, जैसे कि लेयर 1 और लेयर 2 के बीच ब्रिज की भेद्यता यानि खतरा।

लेकिन, लेयर 2 का कोई विकल्प नहीं है। दूसरी ओर, इथेरियम जिस प्रूफ ऑफ स्टेक पर स्विच करना चाहता है, वह वर्तमान डेफी (DeFi) की माँग को पूरा करने के लिए पर्याप्त नहीं होगा, क्योंकि एक सार्वजनिक ब्लॉकचेन डिमांड को पूरा नहीं कर सकता है। इसलिए, नए समाधानों की खोज करते हुए, लेयर 2 के समाधान विकसित होते रहेंगे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

-->