टोकनयुक्त और सिंथेटिक ऐसेट्स: सिंथेटिक ऐसेट्स स्केलेबल क्यों नहीं हैं?

10 मिनट पढ़ें
19, मई, 2022

बिटकॉइन के आगमन के बाद से, पैसे की धारणा बदल गई है। पहले आभासी कॉइन (वर्चुअल कॉइनने सामान खरीदने और सेवाओं के लिए भुगतान करने के तरीके में एक बहुत बड़े परिवर्तन की शुरुआत की है और हमारे लिए धन प्राप्त करने के बहुत सारे अवसर खोले हैं।


डिस्ट्रीब्यूटेड यानि वितरित बहीखाता तकनीक, जैसे ब्लॉकचेन, उन इन्नोवेशंस में से एक है जिसने निवेश के कई तरीकों के लिए बड़े द्वार खोल दिए हैं। इस तरह की तकनीक आपको कला, कंपनी के शेयर, बिल्डिंगस, फंड्स, सेवाएँ, इक्विटी इत्यादि जैसी किसी भी संपत्ति को टोकन में बदलने की अनुमति देती हैं। तो टोकनाइज़ेशन क्या है, और टोकन वाली संपत्ति या कहें ऐसेट्स क्या हैं? आइए पता लगाते हैं। 

टोकनाइजेशन क्या है: परिभाषाएँ

हालाँकि टोकनकरण जटिल लग सकता है, मगर वास्तव में यह काफी सरल है। ऐसेट्स को टोकन (Tokenization of assets) के रूप में बदलना एक वितरित खाता या ब्लॉकचेन पर डिजिटल या भौतिक ऐसेट्स का प्रतिनिधित्व करने वाले डिजिटल टोकन बनाने की प्रक्रिया है।

सीधे शब्दों में कहें तो ऐसेट टोकनाइज़ेशन एक सूचनात्मक कोड बनाने की प्रक्रिया है जो किसी ऐसेट की प्रमुख विशेषताओं को प्रस्तुत करता है, कुछ कार्यों को उजागर करता है जो उपयोगकर्ता को उस ऐसेट के डिजिटल प्रतिनिधित्व के साथ मेलजोल करने की अनुमति देता है।

यह तकनीक इस बात की गारंटी देती है कि एक बार जब आप किसी ऐसेट के टोकन के मालिक हो जाते हैं, तो कोई और उस चुने हुए एसेट का मालिक नहीं हो सकता है। 

टोकनयुक्त ऐसेट्स क्या हैं? 

डिजिटल टोकन (digital token) को किसी ऐसेट, संपत्ति और/या कानूनी अधिकारों के लिए एक विशिष्ट संदर्भ के साथ सॉफ्टवेयर के एक हिस्से के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। इस सत्य के बावजूद कि सॉफ्टवेयर के एक जैसे टुकड़े बनाए जा सकते हैं, यह सत्य है कि एक टोकन जो किसी एक ब्लॉकचेन पर चलता है वह उसे अन्य डिजिटलाइज़ेशन विधियों से अलग करता है। डिजिटल टोकन बनाने की अनुमति देने वाली ब्लॉकचेन तकनीक के कारण, विभिन्न कंपनियाँ आपस में सहयोग कर सकती हैं। इस प्रकार, सभी पार्टियाँ सूचनाओं को मूल रूप से अपडेट और उनकी जाँच कर सकती हैं।

प्रकार

टोकन ऐसेट्स दो प्रकार के हैं: परिवर्तनीय (fungible) और अपरिवर्तनीय (non-fungible) 

  • परिवर्तनीय टोकनिकृत ऐसेट्स लेनदेन करने योग्य हैं, जिसका अर्थ है कि उन्हें ऐसेट की एक आवश्यक सुविधा के समान ही एक दूसरे के साथ आदानप्रदान किया जा सकता है।

परिवर्तनीय टोकन की एक और विशेषता है की यह विभाज्य है, इसलिए ऐसेट्स को दशमलव के स्थान तक खरीदना संभव है। उदाहरण के लिए, प्रसिद्ध क्रिप्टोकरेंसी एथेरियम (ईटीएच) (Ethereum (ETH)) को 18 दशमलव तक के स्थानों में विभाजित किया जा सकता है। इसलिए यह पूरे सिक्के को नहीं बल्कि उसके एक हिस्से (0.000000000000000001 ETH तक) को खरीदना भी संभव बनाता है। 

  • अपरिवर्तनीय टोकनिकृत वाले ऐसेट्स (व्यापक रूप से एनएफटी के रूप में जाने जाते हैं), जो परिवर्तनीय टोकनिकृत के विपरीत हैं, यानि इन्हें एक ही प्रकार के एस्सेट के साथ इंटरचेंज या प्रतिस्थापित नहीं किया जा सकता क्योंकि प्रत्येक एनएफटी विशिष्ट है। और साथ ही वे अद्वितीय और गैरविभाज्य हैं।  

टोकनाइज़ेशन के लाभ

  • डेटा उल्लंघनों से कम जोखिम

टोकनाइज़ेशन की प्रक्रिया व्यवसायों को डेटा उल्लंघन के प्रतिकूल वित्तीय प्रभावों से बचाती है। किसी भी मूल्यवान व्यक्तिगत डेटा के चोरी होने की संभावना बहुत ही कम है, भले ही कोई उल्लंघन हुआ हो तब भी। चाहे टोकननाइजेशन (tokenization) आपकी कंपनी को डेटा उल्लंघन से सुरक्षित नहीं कर सकता है, लेकिन यह आपकी कंपनी पर ऐसी किसी स्थिति में होने वाले वित्तीय प्रभाव को कम कर सकता है। 

  • कम लागत

स्वचालित, स्पष्ट रिकॉर्ड रखने और सार्वजनिक इंटरनेट के उपयोग से, लागत को बहुत कम करना संभव है, पारंपरिक निजी प्लेसमेंट की तुलना में यह ब्लॉकचैन बॉन्ड जारी करने की लागत 90% तक और फण्ड रेज की लागत 40% तक कम कर देता है। टोकनाइज़ेशन की प्रक्रिया व्यवसायों को डेटा उल्लंघन के प्रतिकूल वित्तीय प्रभावों से बचाती है। किसी भी मूल्यवान व्यक्तिगत डेटा के चोरी होने की संभावना बहुत ही कम है, भले ही कोई उल्लंघन हुआ हो तब भी। चाहे टोकननाइजेशन आपकी कंपनी को डेटा उल्लंघन से सुरक्षित नहीं कर सकता है, लेकिन यह आपकी कंपनी पर ऐसी किसी स्थिति में होने वाले वित्तीय प्रभाव को कम कर सकता है। 

  • बेहतर लिक्विडिटी

माना जाता है कि निजी इक्विटी और रियल एस्टेट की कीमत 4 ट्रिलियन डॉलर ($4 trillion) है। फिर भी, टोकनाइज़ेशन एक ग्लोबल इन्वेस्टर पूल को पहले के अद्रव (इल्लिक्विड) या गैरभिन्नात्मक ऐसेट्स (जैसे निजी प्लेसमेंट और रियल एस्टेट) का व्यापार करने का एक तरीका प्रदान करता है। 

  • ग्राहकों का भरोसा

आंकड़ों (statistics) के मुताबिक, अगर उनका डेटा हैक हो जाता है तो कई लोग कंपनी पर भरोसा करना बंद कर देते हैं। इसलिए, टोकनाइज़ेशन एक संपूर्ण सुरक्षा उपकरण के रूप में है जो ग्राहक के विश्वास को बढ़ावा देता है, क्योंकि यह सर्वर के हमलों से बचाता है। 

  • आपके व्यवसाय के लिए हरी झंडी

टोकनिकरण नियामक अनुपालन को पूरा करने और बनाए रखने की प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाता है। मुख्य पॉइंट यह है कि अग्रणी भुगतान प्रौद्योगिकी कंपनियाँ अपनी भुगतान प्रसंस्करण सेवाओं के हिस्से के रूप में टोकन प्रदान करती हैं। इस प्रकार, आप अपने व्यवसाय को बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं जबकि आपका भुगतान भागीदार आपको आज्ञाकारी बने रहने में मदद करने के लिए दफ्तरशाही की मात्रा को कम करता है।

  • पेमेंट (भुगतान) इनोवेशन प्रगति

ग्राहकों के मोबाइल उपकरणों से इनस्टोर भुगतान के लिए टोकनिकरण तेजी से एक प्रमुख भुगतान विधि बन रहा है। ऐप्पल पे (Apple Pay) और गूगल पे (Google Pay) जैसे मोबाइल वॉलेट उपभोक्ताओं के क्रेडिट कार्ड की जानकारी को टोकन के रूप में संग्रहीत करते हैं। स्मार्टफ़ोन स्वयं बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण और अन्य उन्नत सुरक्षा सुविधाओं के माध्यम से अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करते हैं।

भुगतान को टोकन के रूप में करने से, ईकामर्स सुरक्षित हो जाता है, और उपयोगकर्ता के अनुभवों में सुधार होता हैफिर चाहे वो ऑनलाइन, मोबाइल पर या इनऐप पर हों।

सिंथेटिक ऐसेट्स क्या हैं?

यह शब्द – सिंथेटिक्स, वित्तीय साधनों (फाइनेंशिअल इंस्ट्रूमेंट्स) का एक समूह है जो अवधि और नकदी प्रवाह सहित प्रमुख विशेषताओं को बदलते हुए अन्य इंस्ट्रूमेंट्स को साथ मिलाने के लिए बनाया जाता है। सिंथेटिक ऐसेट्स पारंपरिक तौर से डेरिवेटिव उत्पादों को जोड़ते हैं – फ्यूचृस और स्वैपस; या वह विकल्प जो स्टॉक, कर्रेंसीज़, वस्तुओं, इंडेक्सिस, बांड, या ब्याज दरों जैसे मौलिक ऐसेट्स को सिमुलेट या कहें की उनका अनुकरण करते हैं।

वे कैसे काम करते हैं?

जैसा कि हमने पहले लिखा था, सिन्थ्स मौलिक ऐसेट्स के मूल्य का अनुकरण करते हैं। और साथ ही, वे मौलिक ऐसेट्स के मूल्य को ट्रैक करते हैं और इन ऐसेट्स को उन लोगों तक पहुँचाना संभव बनाते हैं जो इनको पाने से वंचित रह जाते हैं। वर्तमान में सिंथेटिक्स 2 प्रकारों तक सीमित है:

  • Normal Synths यानि सामान्य सिन्थ्स (मौलिक ऐसेट्स के साथ सकारात्मक रूप से सहसंबद्ध)
  • Inverse Synths यानि व्युत्क्रम सिन्थ्स (मौलिक ऐसेट्स के साथ नकारात्मक रूप से सहसंबद्ध)

ये किन चुनौतियों का सामना करते हैं?

अपनी सभी अच्छी काबिलियत और आदर्शों के साथ, सिंथेटिक ऐसेट्स के मॉडर्न मार्किट में पूरी तरह से अपनाये जाने के लिए अपने हिस्से की बाधाएँ और चुनौतियाँ (challenges) भी हैं। आइए अब इनमें से कुछ पर चर्चा करें

  • सीमित दायरा: वर्तमान में, निवेशक केवल सीमित संख्या में ऐसेट्स जैसे कि सिंथेटिक्स या यूएमए (UMA) में व्यापार कर सकते हैं। 
  • ध्यान की कमी: सच यही है कि, पहले से मौजूद सिंथेटिक्स हमारा ध्यान आकर्षित नहीं करते हैं। यहाँ तक ​​​​कि अमेरिकी शेयरों को भी शायद ही प्रमुखता मिली है क्योंकि निवेशकों के पास क्रिप्टोकरेंसी में विभिन्न उच्चअस्थिर विकल्प हैं। 
  • खुदरा (रिटेल) बाजार की कमी: सिंथेटिक बाजार को खुदरा उपयोगकर्ताओं के लिए काम करने के लिए बहुत से लेनदेन की आवश्यकता होती है। अक्सर, सिंथेटिक बाजारों में प्रवेश करने वाले निवेशक माइनिंग समुदाय से होते हैं, जो अपने प्रोत्साहनों का आनंद लेते हैं, ना कि उन ग्राहकों का जिनकी उत्पाद टीम ने कल्पना की थी।
  • सहभागिता बढ़ाने में कठिनाई: नियमित रूप से, बड़े और संभावित निवेशक सिंथेटिक बाजार तक अपनी सीधी पहुँच का फायदा उठाते हैं, जबकि छोटे निवेशक इस पहुँच से वंचित रहते हैं।

क्या कोई संभावित समाधान हैं?

सिंथेटिक ऐसेट्स की चुनौतियों को समझने के बाद, अब समय गया है कि हम उनके समाधान (solutions)  के बारे में जानें। हमे सिंथेटिक ऐसेट्स के एक्सेस को अधिक आकर्षक बनाने और विकास के लिए अतिरिक्त प्रोत्साहन देने जैसे सभी तरीकों की आवश्यकता है। सिंथेटिक ऐसेट्स के लिए एक अधिक लिक्विड मार्किट बनाना जो सहभागिता को बढ़ावा देने के लिए सरल हो और इस इंडस्ट्री के बारे में ना जानने वाले या कम जानने वाले सभी निवेशकों के लिए खुला होएक ऐसा मुख्य स्रोत है जिसकी इस सेक्टर को बहुत जरूरत है।

दूसरे शब्दों में, बाजारों के लिए सिंथेटिक ऐसेट्स का ज़्यादा बड़ी संख्या में ट्रेड करना और जयादा से ज्यादा निवेशकों को आकर्षित करने में सक्षम होना महत्वपूर्ण है।

सारांश

सिंथ्स (Synths)  मूल ऐसेट्स (जैसे स्टॉक और बॉन्ड) के मूल्य का अनुकरण करते हैं और उनके मूल्य को ट्रैक करते हैं ताकि नए निवेशकों के लिए उन्हें संभव और आसान बना सके। हालाँकि इस प्रक्रिया में, हमें बहुत सी चुनौतियों जैसेसीमित प्रविष्टि, मुश्किल प्रकृति और बड़े पैमाने पर भागीदारी बढ़ाने की मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। फिर भी, यदि इस ऐसेट वर्ग के लिए एक लिक्विड मार्किट बनाई जाती है, तो वह सभी के लिए पहुँच में और दायरे को बढ़ाने में मदद करेगी। 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

-->